General diseases list | सामान्य बीमारियों के दर्द का उपचार

दोस्तों आज हम चर्चा करेंगे General diseases list सामान्य बीमारियों के दर्द का उपचार,लक्षण एंव चिन्ह जैसे की सिर दर्द,

अधसीसी, कान दर्द, दाँत दर्द, सामान्य जुकाम एंव खांसी, गर्दन दर्द, पीठ दर्द, पेट दर्द, दस्त और पेचिश,

कब्ज, उल्टियाँ और यात्रा सबंध बीमारी।   

General diseases list

Table of Contents

सिरदर्द (Head Pain) | General diseases list

  • यह एक सर्वाधिक आम परेशानी है। जोकि प्राय: कभी न कभी सभी को अपना शिकार बनती है। 
  • यह बिलकुल साधारण थकावट, निढाल होने, चिंता या किसी रोग से हो सकती है।

सिरदर्द के कारण (Reason Of Head Pain )

  • थकावट। 
  • उत्तेजना/चिंता। 
  • नींद न आना। 
  • कब्ज होना। 
  • नज़र में कमी। 
  • दाँतो की परेशानी। 
  • सामान्य जुकाम। 
  • नाक का या उपनाकिय (नासा – रघ्रीय) साइनस सक्रमण। 
  • ज्वर – विषयक। 
  • उच्च रक्तचाप। 
  • निम्न रक्तचाप। 
  • अपवर्तक दोष। 
  • मस्तिष्क सक्रमण या मस्तिष्क फोड़ा। 
  • माइग्रेन। 
  • ग्लूकोमा। 

सिर दर्द के लक्षण व चिन्ह | General diseases list

Head में कहीं भी दर्द जो कि लगातार या स्पंदित रुक रुक कर हो सकता है।

सिर दर्द के उपचार

  1. सिर पर सेंक ठंडी करें।
  2. एनलजिन/डिस्प्रीन/पेरासिटामोल दूध या  पानी के साथ एक या दो गोली ले।
  3. कारण का पता करें और उसी के अनुसार उपचार करें या फिर प्रभावित व्यक्ति को अस्पताल पहुंचाए।

माइग्रेन (अध सीसी) | General diseases list

  • कारण का पता नहीं चल सकता।
  • यह सिरदर्द भोजन की कमी, शोर, गर्मी, यात्रा या भावनात्मक परेशानी से उबरने वाला हो सकता।

माइग्रेन के लक्षण एवं चिन्ह

  1. झिलमिलाहट की दृष्टि से सिर दर्द शुरू हो सकता है।
  2. उल्टी और चक्कर अन्ना।
  3. रोगी प्रकाश या शोर नहीं सहन कर सकता ।
  4. सिर में लगातार स्पंदन।

माइग्रेन के उपचार

  1. एनाल्जिन या डिस्प्रिन जैसे दर्द निवारक दे।
  2. माईग्रिल/वैसाग्रेन नामक गोलियां दिन में तीन बार दे।

कान दर्द

यह दर्द बहुत ही पीड़ादायक हो सकता है।

कान दर्द के कारण

  1. Ear में फुंसी।
  2. कान में फोड़ा।
  3. टोसिलाइट्स इसके कारण मध्य कान में संक्रमण।
  4. कान में मैल।
  5. कान में वायु का बुलबुला।
  6. पानी के अंदर तैरना।

कान दर्द लक्षण एव चिन्ह

    • दांत या जबड़े में दर्द, जो कि लगातार स्पंदन युक्त या रुक रुक कर हो सकता है।
    • ठंडे या गर्म खाद्य या पदार्थ में यह दर्द और भी भयानक हो सकता है।
      1. कान में लगातार या स्पंदन युक्त दर्द।
      2. कारण की खोज करें और उसका उपचार करें।
      3. दर्द निवारक एनाल्जिन/डिस्प्रिन/ब्रूफेन या प्राक्सीवेंन दे।
      4. कान की मैल हेतु सोडा गिल्सरीन या स्लोवेक्स की एक एक बूंद दिन में तीन बार डालें।
      5.  कान में वायु के बबूले होने पर रुई से कान साफ करें उस व्यक्ति को सलाह दें कि नाक पकड़ कर तथा मुंह बंद रख कर मुंह में हवा मरे और गुटके। 
      6. यदि पानी में तेरे कान में कान में रुई लगाएं।

      Ear Doctor Home remedies | कान के रोग की संपूर्ण जानकारी

      दांत दर्द के लक्षण एवं चिन्ह

      Teeth का संबंध अस्थी क्षरण में सर्वाधिक महत्वपूर्ण कारण है।

      1. दांत या जबड़े में दर्द, जो कि लगातार स्पंदन युक्त या रुक रुक कर हो सकता है।
      2. ठंडे या गर्म खाद्य या पदार्थ में यह दर्द और भी भयानक हो सकता है।

    दांत दर्द के उपचार

    1. प्रभावित दांत पर लॉन्ग का तेल लगाएं।
    2. एनाल्जिन/डिस्प्रिन-ब्रूफेन प्राक्सीवेंन गोली दें।
    3. गंभीर या लगातार दांत दर्द से राहत पाने के लिए गर्म पानी की बोतल या गर्म पेड से प्रभावित जगह पर सिकाई करें।
    4. यदि यह लक्षण रहते हैं या बुखार रहता है या दांत के आसपास सूजन रहती है तो अपने दांतो के डॉक्टर से संपर्क करें।

सामान्य जुकाम व खांसी लक्षण एंव चिन्ह

  1. नाक बहना।
  2. सिर दर्द
  3. आंखों से पानी आना।
  4. साधारण बुखार।

सामान्य जुकाम और खांसी का उपचार

  1. कोसविल/वीकोरिल/ की एक-एक गोली दिन में तीन बार दे।
  2. विटामिन सी की 500 मिलीग्राम गोली प्रतिदिन।
  3. टिंचर बेंजोइन/करबोल का वाष्पन लेना।
  4. दिन में तीन बार ब्रेनाड्रिल या फेंसेड्रिल की एक टेबल स्पून (सर्विस चम्मच)दें।

गर्दन में दर्द, लक्षण एवं चिन्ह

किसी भी गतिविधि के करने पर गर्दन में कहीं भी दर्द उठना।

गर्दन दर्द में उपचार

  1. गर्दन पर गर्म पानी की बोतल से सेक करना।
  2. दिन में तीन बार ब्रूफेन या वोवेरन की एक गोली।
  3. मेडीक्रीम या रिलेक्सिल जेसी क्रीमों का प्रभावित जगह पर मलना।

पीठ दर्द

ठीक गर्दन दर्द की भांति जांचे उपचारित करें।

Stomach Pain

पेट में दर्द के अनेकों कारण हो सकते हैं जिसमें अपच, उदर शूल, एंठन या मरोड, पतले दस्त आना, कब्ज होना तथा भोजन विषाक्तता कैसे कारण शामिल है।

Stomach दर्द के लक्षण एवं चिन्ह

पेट में कहीं भी दर्द हो सकता है जो धीमा या तीव्र हो सकता है।तथा लगातार या रुक रुक कर स्थान विशेष पर या सामान्य हो सकता है।

पेट दर्द के उपचार

  1. कारण का पता करें और उपचार करें।
  2. व्यक्ति को अधवेठी स्थिति में रखें। सिर व कन्धों को सहारा देकर रोगी के टांगों को मोड़े और सहारा दे।
  3. प्रभावित क्षेत्र पर गर्म पानी की बोतल से सिकाई करें।
बड़ों के लिए:
  1. बरालगान/सपासमींड़ोंन/गोली दे।
  2. डाइजीन गोली दे।
बच्चों के लिए:
  1. बरालगान/सपासमींड़ोंन/पिपटेल की बूंदे दें।

दस्त और पेचिश 

बार – बार पानीदार मल त्याग को दस्त कहते है लेकिन यदि इनके साथ खुन और बलगम आ रहा हो तो इसे पेचिश कहते है।

कारण  
  1. पाचन क्रिया में खराबी। 
  2. बैक्ट्रिया का सक्रमण। 
  3. अमीबाई पेचिश। 
  4. भोजन बिषाक्तता। 
लक्षण एव चिन्ह 
  • पतले दस्त आना। 
  • पतले दस्तो  के साथ खून एंव आव। 
  • उल्टी लगना। 
  • बुखार होना। 
  • बेचैनी या व्याकुलता, Weakness 
  • पेट में दर्द। 
उपचार 
  1. दिन में तीन बार डिपेंडाल -एम  गोली ले। 
  2. बेरलगान /स्पासमिन्डोन गोली दे। 
  3. यदि उल्टी है तो स्टेमैटिल /एवोमाइन/पेरिनोरम गोली दे।
  4. मिर्च एंव मसालेदार आहार से बचे। 
  5. भरपूर मात्रा में पेय पदार्थ, दही के साथ चावल तथा खिचड़ी खाए। 
  6. उचित साफ – सफाई व स्वच्छता बरतें। 
  7. खाद्य – पदार्थो को मक्खियों की पहुँच से दूर रखें। 
  8. उचित ढंग से हाथो को धोए। 
कब्ज और उपचार 

48 घंटे के बीच पेट का आधा अधूरा खाली होना कब्ज़ कहलाता है। 

  1. डयूलकोलेक्स/पर्सेनिड (2 गोली सोते Time) या पैराफिन/ क्रिमफिन द्रव एव औंस सोते समय ले। 
  2. पर्यप्त पेय पदार्थ, हरी सब्जियाँ, मौसमी फल लेने से कब्ज से बचाव होता है। 
उल्टियाँ और उपचार 

यह आंत्रशोध, भोजन विषाक्तता या यात्रा की कमजोरी से होती है। 

  1. स्टेमेटिल/एवोमाइन/पेरिनोरम गोली दे। 
  2. डाइजीन की गोली खाए। 
  3. कारण पता कर उपचार करें। 
यात्रा सबंधी बीमारी लक्षण एव चिन्ह 

कुछ खास लोग जब यात्रा करते है। विशेष रूप से बसों में यात्रा करते है। तो उनके अंदर यात्रा सबंधी बीमारी पैदा हो जाती है। 

  1. चकराना या घुमड़ी। 
  2. सिर में चक्र आना। 
  3. सिर में असहजता महसूस होना। 
  4. पेट में दर्द। 
  5. उल्टी होना। 
उपचार 
  1. स्टेमेटिल/एवोमीन/पेरिनोरम की गोली की मात्रा शुरू होने के 1/2 घंटे पहले से ले लें। 
  2. एयर स्किनेस बैग ले। 
  3. यात्रा से पहले घोल के रूप में आहार लें। 

ये भी पढ़े

  1. Nimbu ke fayde aur nuksan | नींबू के फ़ायदे और नुक़्सान
  2. Bawaseer ka ilaj | Piles treatment in hindi
  3. एड्स के लक्षण, बचाव के उपाय
  4. Motapa kaise kam kare tips | वज़न कम करने के 15 टिप्स
  5. Height Kaise Badhaye in Hindi | लंबाई कैसे बढ़ाये
  6. How To Increase Height In Hindi | लंबाई बढ़ाने के 15 Tips

दोस्तों आपको  सामान्य बीमारियों के दर्द का उपचार ये पोस्ट कैसी लगी।

नीचे Comment box में Comment करके अपने विचार हमसे अवश्य साझा करें।

और आपका 1 कमेंट हमें लिखने को  प्रोत्साहित करता और हमारा जोश बढ़ाता है।

हमें बहुत ख़ुशी होगी। इस Post को अपने दोस्तों के साथ Share ज़रूर करें।

जैसे की Facebook, Twitter, linkedin और Pinterest इत्यादि। 

गर आपके पास कोई लेख है तो

आप हमें Send कर सकते है।

हमारी Email id: helpbookk@gmail.com है।

Right Side में जो Bell Show हो रही है।

उसे Subscribe कर लें। ताकि आपको समय-समय पर Update मिलता रहे।

Thanks For Reading

Leave a Comment